Sunday, January 24, 2021
0 0
Home National एक जहाज जून से तो दूसरा सितंबर से चीनी बंदरगाह पर खड़ा...

एक जहाज जून से तो दूसरा सितंबर से चीनी बंदरगाह पर खड़ा है, भारत ने चीन से तुरंत मदद करने को कहा

Read Time:4 Minute, 8 Second


चीन के जल क्षेत्र में भारत के 39 नाविक (Stranded Indian sailors) फंस गए हैं। ये पानी के दो अलग-अलग जहाजों (Ships) से वहां सामान (Cargo) लेकर गए थे। भारतीय विदेश मंत्रालय (MEA) ने शुक्रवार को बताया कि ये दोनों जहाज मालवाहक हैं। MV जग आनंद जहाज 13 जून से चीन के हुबेई प्रांत में जिंगटांग बंदरगाह के पास खड़ा है। इस पर 23 भारतीय नाविक सवार हैं, जबकि दूसरे MV अनासतासिया जहाज पर 16 भारतीय नाविक फंसे हैं। ये 20 सितंबर से चीन के कोओफिदियन बंदरगाह के पास खड़ा है।

भारत सरकार ने चीन के उच्चायोग से संपर्क किया
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि नाविकों की वापसी और उनकी समस्याओं को लेकर भारत सरकार लगातार चीन के उच्चायोग से संपर्क में है। श्रीवास्तव ने कहा, ”हम समझते हैं कि दूसरे देशों के कई अन्य जहाज भी अपना माल उतारने की बारी का इंतजार कर रहे हैं। बीजिंग में हमारे उच्चायोग ने लगातार इन दोनों मामलों को चीन के विदेश मंत्रालय और लोकल एडमिनिस्ट्रेशन के सामने उठाया है। उनसे आग्रह किया गया है कि वह दोनों जहाजों को जल्द से जल्द माल उतारने की अनुमति दें। चीन में मौजूद भारत के राजदूत ने व्यक्तिगत तौर पर चीन के विदेश उपमंत्री के सामने यह मुद्दा उठाया है।”

चीनी सेना माल नहीं उतारने दे रही

  • दोनों जहाज से कुछ सामान (कॉर्गो) चीन ले जाया गया था। लेकिन यहां दोनों जहाजों को बंदरगाह पर खड़ा करवा दिया गया है।
  • दोनों जहाजों से माल नहीं उतारने की अनुमति दी जा रही है। इसके चलते नाविक काफी परेशान हैं। नाविकों ने भारत सरकार से गुहार लगाई।
  • विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि चीनी प्रशासन ने हमें बताया है कि स्थानीय प्रशासन द्वारा कोविड-19 के मद्देनजर कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं। इस कारण से बंदरगाहों पर जहाजों के चालक दलों में किसी तरह के बदलाव की अनुमति नहीं दी गई।

चालक दल के बदलाव के लिए आवेदन करना होगा
श्रीवास्तव ने बताया कि चीन के विदेश मंत्रालय ने नवंबर 2020 में बताया था कि जिंगटांग बंदरगाह पर जहाज के चालक दल में बदलाव फिलहाल नहीं किया जा सकता है। हालांकि, जहाज कंपनी के मालिक/एजेंट चीन के तियानजिन बंदरगाह पर चालक दल में बदलाव के लिए आवेदन कर सकते हैं। स्थानीय प्रशासन मौजूदा स्थिति का आकलन करने के बाद कोई फैसला लेगा।

इन हालात के मद्देनजर, भारत की तरफ से आवेदन करके चालक दल में बदलाव करने की मंजूरी मांगी जाएगी। उधर, चीन ने भी स्टेटमेंट जारी करके कहा है कि हम जहाजों पर जरूरी सुविधाएं और मदद पहुंचाने के लिए काम कर रहे हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


भारत के विदेश मंत्रालय ने नाविकों की मदद और वापसी के लिए चीन के विदेश मंत्रालय से संपर्क किया है। -फाइल फोटो।

About Post Author




Happy

Happy

0 %


Sad

Sad

0 %


Excited

Excited

0 %


Sleppy

Sleppy

0 %


Angry

Angry

0 %


Surprise

Surprise

0 %

Leave a Reply

Most Popular

कोरोना से भारत में डेढ़ लाख मौतें: दुनिया का तीसरा देश, जहां सबसे ज्यादा मौतें; पर बेहतर इलाज से 4 महीने में 30 हजार...

बुरी खबर है। देश में कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 1 लाख 50 हजार से ज्यादा हो गई है। भारत दुनिया...

कोरोना देश में: UK से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट अनिवार्य; हर हफ्ते अब 60 की बजाय केवल 30 फ्लाइट्स होंगी

सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि UK से आने वाले सभी लोगों के लिए कोरोना का RT-PCR टेस्ट...

‘अवैध संबंध’ को लेकर महिला ने ‘मानसिक रूप से प्रताड़ित’ किया, सिपाही ने की खुदकुशी

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में मंगलवार को एक पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा खुदकुशी करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। Source link

Recent Comments