Wednesday, January 27, 2021
0 0
Home National एनसीईआरटी: प्ले-स्कूल के बच्चों को अब पढ़ाई नहीं, बल्कि शेयरिंग-केयरिंग की आदतों...

एनसीईआरटी: प्ले-स्कूल के बच्चों को अब पढ़ाई नहीं, बल्कि शेयरिंग-केयरिंग की आदतों के आधार पर जांचा जाएगा

Read Time:3 Minute, 31 Second



एनसीईआरटी ने इससे पहले कहा था- बच्चों को पढ़ाई के पहले साल में अच्छा श्रोता बनना, रिएक्शन देना और आई-कॉन्टैक्ट सिखाया जाना चाहिए। इस नए बदलाव में बच्चों के माता-पिता से भी फीडबैक भी लिया जाएगा। नई दिल्ली. प्ले-स्कूल के बच्चों को अब पढ़ाई नहीं, बल्कि उनकी आदतों और साथी स्टूडेंट से व्यवहार के आधार पर जांचा-परखा जाएगा। एनसीईआरटी ने इसे लेकर नई एजुकेशन गाइडलाइन्स बना ली हैं। हालांकि, अभी तय नहीं है कि यह बदलाव इसी शैक्षणिक सत्र से लागू होगा या नहीं। टीचर रोज इन छोटी-छोटी आदतों पर नजर रखेंगे जैसे कि- बच्चे में शेयरिंग-केयरिंग जैसी भावनाएं हैं कि नहीं? बच्चा अपने स्टडी मैटेरियल का कैसे इस्तेमाल करता है? अपनी पेंसिल, अपने कलर्स को हिफाजत से रखता है कि नहीं? साथियों से दोस्ती करके रहता है या लड़ता-झगड़ता है? बच्चे की इस तरह की आदतों के आधार पर ही उसका असेसमेंट होगा यानी रिपोर्ट कार्ड तैयार होगा। बच्चे की इन आदतों पर भी नजर होगी… – बच्चा अपनी पेंसिल, कलर्स अपने साथियों को इस्तेमाल करने देता है कि नहीं? – जल्दी गुस्सा तो नहीं होता? स्कूल आने पर बच्चा ज्यादा चिड़चिड़ाता तो नहीं है? – टीचर के दिए टास्क को लेकर, होमवर्क में और लर्निंग में बच्चा कितना एक्टिव है? – एक्टिविटी एरिया में बच्चे का परफॉर्मेंस कैसा है? क्यों किया जा रहा है ये बदलाव – दरअसल, ये कवायद प्ले-स्कूल के बच्चों पर पढ़ाई का बोझ कम करने के लिए है। एनसीईआरटी का मानना है कि बच्चों पर छोटी क्लास में ही पढ़ाई का ज्यादा बोझ डाला जा रहा है। जबकि प्ले-स्कूल में पढ़ाई से ज्यादा व्यक्तित्व की बेहतर नींव डालने पर जोर दिया जाना चाहिए। माता-पिता भी करेंगे टीचर की मदद – टीचर रोज बच्चों का बिहेवियर एंड प्रोग्रेस नोट तैयार करेंगे। बच्चे के पैरेंट्स से भी इस बारे में रेगुलर फीडिंग दी और ली जाएगी। टीचर को इस संबंध में काफी संवेदनशील रहना चाहिए कि किस बच्चे की किस एक्टिविटी को किस खास वक्त पर नोट करना है। बच्चे की छोटी से छोटी आदतों पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए। जैसे कि- वो पेंसिल कैसे पकड़ता है?’ एनसीईआरटी ने पिछले महीने भी ड्राफ्ट जारी किया था। उसमें कहा गया था कि- बच्चों को पढ़ाई के पहले साल में अच्छा श्रोता बनना, रिएक्शन देना और आई-कॉन्टैक्ट सिखाया जाना चाहिए।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


NCERTs new guideline to reduce teaching burden on kids in Play School


NCERTs new guideline to reduce teaching burden on kids in Play School

About Post Author




Happy

Happy

0 %


Sad

Sad

0 %


Excited

Excited

0 %


Sleppy

Sleppy

0 %


Angry

Angry

0 %


Surprise

Surprise

0 %

Leave a Reply

Most Popular

कोरोना से भारत में डेढ़ लाख मौतें: दुनिया का तीसरा देश, जहां सबसे ज्यादा मौतें; पर बेहतर इलाज से 4 महीने में 30 हजार...

बुरी खबर है। देश में कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 1 लाख 50 हजार से ज्यादा हो गई है। भारत दुनिया...

कोरोना देश में: UK से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट अनिवार्य; हर हफ्ते अब 60 की बजाय केवल 30 फ्लाइट्स होंगी

सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि UK से आने वाले सभी लोगों के लिए कोरोना का RT-PCR टेस्ट...

‘अवैध संबंध’ को लेकर महिला ने ‘मानसिक रूप से प्रताड़ित’ किया, सिपाही ने की खुदकुशी

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में मंगलवार को एक पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा खुदकुशी करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। Source link

Recent Comments