Saturday, January 23, 2021
0 0
Home National दादा का अंतिम संस्कार चल रहा था, अचानक तेज आवाज हुई... मलबे...

दादा का अंतिम संस्कार चल रहा था, अचानक तेज आवाज हुई… मलबे में दबने से लोगों के हाथ-पैर कट गए

Read Time:6 Minute, 49 Second


गाजियाबाद के मुरादनगर में रविवार दोपहर को लोग फल विक्रेता जयराम के अंतिम संस्कार में शामिल होने श्मशान घाट पहुंचे थे। अंतिम संस्कार के दौरान बारिश हो रही थी। बारिश से बचने के लिए लोग वहां बने शेड में खड़े हो गए। तभी अचानक पूरी इमारत ढह गई और 18 लोगों की मौत हो गई। हादसे में 38 लोग घायल हुए। मारे गए लोगों में फल विक्रेता के परिवार का एक सदस्य भी शामिल है। चश्मदीदों के मुताबिक, हादसे के बाद का मंजर बेहद भयावह था। मलबे में दबे लोगों के शरीर के अंग कट गए थे।

बारिश में नई गैलरी की छत गिरी
फल विक्रेता जयराम के पोते देवेंद्र ने बताया- दादा का अंतिम संस्कार चल रहा था। बारिश हो रही थी, तो लोग नई बनी गैलरी में खड़े हुए थे। अचानक तेज आवाज आई। जब मैं उस तरफ दौड़ा तो देखा कि छत गिर चुकी थी। कई लोग इसके नीचे दबे हुए थे। इस हादसे में मेरे चाचा की मौत हो गई। बड़े चाचा का लड़का मलबे में दबा था। उसे अस्पताल में भर्ती करवाया है। मेरे पिता को कंधे पर चोट आई है। वे हादसे में बाल-बाल बच गए।

घटना के चश्मदीद देवेंद्र ने बताया कि हादसे में कई लोगों के हाथ-पैर कटकर बिखर गए।

जो जहां खड़ा था, वहीं दबा रहा गया
स्थानीय निवासी सुशील कुमार ने बताया कि मलबे के नीचे दबे लोगों की हालत देखकर हर किसी के रौंगटे खड़े हो गए। मलबे में किसी का केवल हाथ नजर आ रहा था तो किसी का सिर। हालात देखकर ऐसा लग रहा था कि जो जहां खड़ा था, वहीं दब गया। गैलरी में किनारे पर खड़े लोग भी इस हादसे का शिकार हुए।

गैलरी की छत गिरने पर उसके नीचे खड़े लोगों को संभलने का मौका नहीं मिला। जो जहां था, वहीं दब गया।

चीख-पुकार सुनकर लोग श्मशान की तरफ भागे
श्मशान घाट के पास रहने वाले अरनेस्ट जेम्स ने बताया कि बारिश हो रही थी। लोग अपने घरों में थे। अचानक तेज आवाज हुई और चीख पुकार मच गई। शुरू में कोई समझ नहीं पाया कि आखिर हुआ क्या है? चीख पुकार तेज हुई, तो लोग घरों से बाहर निकले। उस समय कुछ लोग शोर मचाते हुए श्मशान से बाहर की तरफ भाग रहे हैं। जब स्थानीय लोग वहां पहुंचे, तो उनकी सांसें थम-सी गई। इसके बाद पुलिस और रेस्क्यू टीम ने मलबे में दबे लोगों को निकाला।

हादसे के बाद रेस्क्यू टीम के साथ प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे। मलबे से 37 लोगों को निकाला गया।

दबने से कुछ लोगों के हाथ-पैर कट चुके थे
श्मशान के पड़ोस में रहने वाले मोरगन का कहना है कि शुरू में जो स्थिति थी, उसे देखकर नहीं लग रहा था कि मलबे में दबे लोग जिंदा होंगे। सब कुछ इतनी तेजी से हुआ कि किसी को बचाव का मौका नहीं मिला। कुछ ऐसे भी लोग थे जिनके हाथ-पैर कट चुके थे। पुलिस और रेस्क्यू टीम ने जेसीबी बुलाकर मलबे के नीचे दबे लोगों को बाहर निकालना शुरू किया।

हादसे के बाद SDRF ने साढ़े तीन घंटे रेस्क्यू अभियान चलाकर दबे हुए लोगों को शेड से निकाला।

महिलाएं भी रोते-बिलखते श्मशान पहुंचीं
इस हादसे का शिकार हुए लोगों के परिजन भी मौके पर पहुंचे गए। सभी का रो-रोकर बुरा हाल था। कोई मलबे में अपने भाई की तलाश कर रहा था, तो कोई अपने पिता की। ​महिलाएं भी रोती-बिलखती अपनों को खोज रही थीं। एक दूसरे से लोग पूछ रहे थे कि कौन कहां है, किसी का कुछ पता चला। शुरू में किसी को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था। हर किसी की जुबां से यही निकल रहा था कि यह क्या हो गया?

हादसे के बाद स्थानीय लोगों ने अपने स्तर पर राहत और बचाव का काम शुरू किया।

60 फीट लंबी बिल्डिंग ढाई महीने पहले बनी थी
बताया जा रहा है कि ढाई महीने पहले श्मशान घाट पर धूप, बारिश से बचाव के लिए गैलरी बनाई गई थी। इसी लंबाई करीब 60 फीट थी। लेकिन, इसे बनाते समय क्वालिटी का ध्यान नहीं रखा गया। गैलरी के गिरते ही इसे बनाने में इस्तेमाल हुई सामग्री चूरे में तब्दील हो गई।

मलबे में दबे गए लोगों को खोजने के लिए रेस्क्यू टीम ने डॉग स्क्वॉयड का सहारा लिया।

100 से ज्यादा लोग अंतिम संस्कार में पहुंचे थे
मुरादनगर के श्मशान में हादसे के समय 100 से ज्यादा लोग गैलरी की छत के नीचे खड़े हुए थे। ये सभी फल व्यापारी के अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मरने वालों के परिजन को दो-दो लाख रुपए की मदद देने के निर्देश दिए हैं। साथ हीमेरठ कमिश्नर और एडीजी रिपोर्ट मांगी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


फोटो गाजियाबाद में मुरादनगर स्थित श्मशान घाट की है। रविवार को हादसे के बाद राहत बचाव कार्य में जुटे लोग।

About Post Author




Happy

Happy

0 %


Sad

Sad

0 %


Excited

Excited

0 %


Sleppy

Sleppy

0 %


Angry

Angry

0 %


Surprise

Surprise

0 %

Leave a Reply

Most Popular

कोरोना से भारत में डेढ़ लाख मौतें: दुनिया का तीसरा देश, जहां सबसे ज्यादा मौतें; पर बेहतर इलाज से 4 महीने में 30 हजार...

बुरी खबर है। देश में कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 1 लाख 50 हजार से ज्यादा हो गई है। भारत दुनिया...

कोरोना देश में: UK से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट अनिवार्य; हर हफ्ते अब 60 की बजाय केवल 30 फ्लाइट्स होंगी

सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि UK से आने वाले सभी लोगों के लिए कोरोना का RT-PCR टेस्ट...

‘अवैध संबंध’ को लेकर महिला ने ‘मानसिक रूप से प्रताड़ित’ किया, सिपाही ने की खुदकुशी

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में मंगलवार को एक पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा खुदकुशी करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। Source link

Recent Comments