0 0
Read Time:2 Minute, 51 Second


थलसेना में महिला अफसरों को परमानेंट कमीशन देने के लिए बनाए गए पहले आर्मी बोर्ड ने गुरुवार को रिजल्ट जारी कर दिए। बोर्ड के फैसले के बाद, सेना की करीब 49% महिला अधिकारी सर्विस में बनी रहेंगी।

सेना के सूत्रों ने बताया कि कुल 615 महिला अधिकारियों को परमानेंट कमीशन दिए जाने पर बोर्ड विचार कर रहा था। इनमें से करीब 320 महिला अधिकारी 20 साल की सर्विस के बाद रिटायर होंगी। इन्हें पेंशन भी मिलेगी।

सेना ने 4 महीने पहले आदेश जारी किया था

सेना ने करीब 4 महीने पहले महिला ऑफिसर्स को परमानेंट कमीशन देने का आदेश जारी किया था। इस फैसले के बाद, महिलाओं को सेना की सभी 10 स्ट्रीम- आर्मी एयर डिफेंस, सिग्नल, इंजीनियर, आर्मी एविएशन, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड मैकेनिकल इंजीनियर, आर्मी सर्विस कॉर्प, इंटेलीजेंस, जज, एडवोकेट जनरल और एजुकेशनल कॉर्प में परमानेंट कमीशन मिलने का रास्ता खुल गया था।

क्या है स्थायी कमीशन?
सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले आर्मी में 14 साल तक शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) में सेवा दे चुके पुरुषों को ही स्थाई कमीशन का विकल्प मिल रहा था, लेकिन महिलाओं को यह हक नहीं था। दूसरी ओर वायुसेना और नौसेना में महिला अफसरों को स्थाई कमीशन पहले से मिल रहा है।

आर्मी में शॉर्ट सर्विस कमीशन में महिलाएं 14 साल तक सर्विस के बाद रिटायर हो जाती हैं। अब वे स्थायी कमीशन के लिए अप्लाई कर सकती हैं। सेलेक्ट होने वाली महिला अफसर आगे सर्विस जारी रख सकती हैं। वे सर्विस पूरी होने पर रैंक के हिसाब से ही रिटायर होंगी।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


सेना ने 4 महीने पहले ही महिला अफसरों को परमानेंट कमीशन दिए जाने पर आदेश जारी किया था।

About Post Author

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply