Sunday, January 24, 2021
0 0
Home JeewanMantra सैनिटरी नैपकिन से होने वाले कचरे की समस्या से निपटने के लिए...

सैनिटरी नैपकिन से होने वाले कचरे की समस्या से निपटने के लिए तेलंगाना के सरकारी स्कूल की दो स्टूडेंट ने बनाया ‘जीरो वेस्ट’ सैनिटरी नैपकिन

Read Time:4 Minute, 17 Second


तेलंगाना के यादाद्री भुवनगिरि जिले के एक सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स ने सैनिटरी नैपकिन से होने वाले कचरे को खत्म करने के मकसद से स्त्री रक्षा पैड्‌स नामक जीरो वेस्ट सैनिटरी नैपकिन बनाया है। जिला परिषद हाई स्कूल मुल्कलपल्ली के स्टूडेंट्स ने इन ऑर्गेनिक सैनिटरी पैड को जलकुंभी, मेथी, हल्दी, नीम और साब्जा के बीज का इस्तेमाल कर बनाया है।

ऑर्गेनिक सामान से बनाया सैनिटरी पैड

इसे बनाने वाली छात्रा स्वाति ने न्यूज एजेंसी को बताया कि बाजार में मिलने वाले पैड आसानी से खत्म नहीं होते, ऐसे में इस समस्या को हल करने के लिए, हमने यह नैपकिन ऑर्गेनिक सामान से बनाया है। साथ ही आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले सैनिटरी पैड में कई पेट्रोलियम पदार्थों का इस्तेमाल किया जाता है, जिसके कई साइड इफेक्ट्स होने के साथ ही कई पर्यावरणीय समस्याएं भी होती हैं।

ऐसे तैयार होता है ऑर्गेनिक सैनिटरी नैपकिन

इस ऑर्गेनिक सैनिटरी पैड की प्रोसेस के बारे में स्वाति ने बताया कि नीम के पत्तों, मेथी और हल्दी के साथ जलकुंभी के पेस्ट को ठोस बोर्ड बनने तक सुखाया जाता है। इसके बाद एक कॉमन पैड के आकार में इसे काटकर मधुमक्खी के गोंद की मदद से मेथी और साब्जा के बीज को बोर्ड पर एक साथ जोड़कर कपास की पट्टियों के बीच रखा जाता है और फिर सील कर दिया जाता है।

लोगों के बीच जागरुकता लाना जरूरी

इसी स्कूल की 10वीं कक्षा में पढ़ने वाली एक अन्य छात्रा अनीता ने कहा कि, “लोगों और खुद के बीच मासिक धर्म के बारे में बात कर जागरूकता पैदा करना जरूरी है। ऐसे में जागरूकता पैदा करने और ऑर्गेनिक सैनिटरी पैड के उपयोग में अपनी भागीदारी देने के मकसद से हमने यह सैनिटरी पैड बनाने का फैसला किया। ये पैड न सिर्फ महिलाओं को उनके मासिक धर्म के दौरान मदद करते हैं, बल्कि पर्यावरण के अनुकूल भी हैं। ”

आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर है जलकुंभी

स्वाति ने बताया कि यह जानने के बाद कि जलकुंभी में आयुर्वेदिक सार होने के साथ पुराने समय में महिलाएं इसे कपड़े में बांधकर गाय के गोबर के साथ सैनिटरी पैड के रूप में इस्तेमाल करती थीं, हमने भी इसकी मदद से सैनिटरी पैड बनाने का फैसला किया। इन पैड्स को बनाने में स्टूडेंट्स का मार्गदर्शन करने वाली शिक्षिका कल्याणी कहती हैं कि स्त्री रक्षा पैड्‌स बनाने पर उन्हें अपने स्टूडेंट्स पर गर्व है।

यह भी पढ़ें-

ऑनलाइन सर्वे रिपोर्ट:69 फीसदी पेरेंट्स अप्रैल, 2021 से स्कूल फिर खोलने के पक्ष में, 56 फीसदी वैक्सीन के परिणामों और निष्कर्षों के आधार पर लेंगे फैसला

करिअर सक्सेस:मेंटल मॉडल्स से मिल सकते हैं करिअर में बेहतर रिजल्ट्स, जानिए कुछ ऐसे मेंटल मॉडल्स जो आपके करिअर को कर सकते हैं सुपरचार्ज

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


To tackle the problem of waste caused by sanitary napkins, two students of a government school in Telangana made ‘Zero West’ sanitary napkins from organic materials

About Post Author




Happy

Happy

0 %


Sad

Sad

0 %


Excited

Excited

0 %


Sleppy

Sleppy

0 %


Angry

Angry

0 %


Surprise

Surprise

0 %

Leave a Reply

Most Popular

कोरोना से भारत में डेढ़ लाख मौतें: दुनिया का तीसरा देश, जहां सबसे ज्यादा मौतें; पर बेहतर इलाज से 4 महीने में 30 हजार...

बुरी खबर है। देश में कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 1 लाख 50 हजार से ज्यादा हो गई है। भारत दुनिया...

कोरोना देश में: UK से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट अनिवार्य; हर हफ्ते अब 60 की बजाय केवल 30 फ्लाइट्स होंगी

सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि UK से आने वाले सभी लोगों के लिए कोरोना का RT-PCR टेस्ट...

‘अवैध संबंध’ को लेकर महिला ने ‘मानसिक रूप से प्रताड़ित’ किया, सिपाही ने की खुदकुशी

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में मंगलवार को एक पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा खुदकुशी करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। Source link

Recent Comments