Wednesday, January 20, 2021
0 0
Home National UP में 224 रिटायर्ड अफसर कानून के समर्थन में; कहा- योगी को...

UP में 224 रिटायर्ड अफसर कानून के समर्थन में; कहा- योगी को संविधान की सीख देना गलत

Read Time:4 Minute, 26 Second


उत्तर प्रदेश में लव जिहाद कानून को लेकर सोमवार को एक नई चिट्ठी सामने आई। पूर्व चीफ सेक्रेटरी योगेंद्र नारायण की अगुवाई में 224 रिटायर्ड अफसरों की तरफ से लिखी इस चिट्ठी में कानून का समर्थन किया गया है। वहीं, पूर्व नौकरशाहों की पिछली चिट्‌ठी को राजनीति से प्रेरित बताया गया है। चिट्‌ठी में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संविधान की सीख देना गलत है।

पांच दिन पहले 104 पूर्व नौकरशाहों ने उत्तर प्रदेश सरकार पर नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाया था। इसमें लव जिहाद कानून रद्द करने की मांग की गई थी। सोमवार को सामने आई चिट्ठी में पिछली चिट्ठी का जवाब दिया गया है।

धर्म छिपाकर धोखा देने वालों पर कारगर अध्यादेश
फोरम ऑफ कन्सर्न्ड सिटिजन से जुड़े 244 पूर्व अफसरों ने अपनी चिट्ठी में लव जिहाद को रोकने के लिए योगी सरकार के बनाए कानून को समर्थन दिया है। इसमें कहा गया है कि ब्रिटिश राज में भी कई रजवाड़ों ने इसी तरह के कानून लागू किए थे। इससे उत्तर प्रदेश की गंगा-जमुनी तहजीब को कोई खतरा नहीं हैं। यह अध्यादेश धर्म और जाति छिपाकर धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ कारगर है।

चिट्ठी में यह भी कहा गया कि कुछ रिटायर्ड ऑफिसर्स (जो अमूमन सरकार के विरोधी स्वभाव के हैं) कानून का विरोध कर रहे हैं। राजनैतिक तौर पर एक पक्ष की पैरवी करने वाले ये अफसर हजारों पूर्व अधिकारियों का प्रतिनिधित्व नहीं करते। पिछली चिट्ठी में CM योगी को संविधान के बारे में फिर से पढ़ने की नसीहत दिए जाने को भी गैर जिम्मेदाराना बताया गया है। इसे संवैधानिक ढांचे को कमजोर करने वाला भी बताया गया है।

कानून के खिलाफ 104 पूर्व IAS ने लिखी थी चिट्ठी
पांच दिन पहले लव जिहाद कानून रद्द करने की मांग को लेकर 104 पूर्व IAS अफसरों ने CM योगी आदित्यनाथ को चिट्‌ठी लिखी थी। इसमें पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, विदेश सचिव निरूपमा राव और प्रधानमंत्री के पूर्व सलाहकार रहे टीकेए नायर जैसे पूर्व अफसर शामिल थे। उन्होंने लिखा था कि UP कभी गंगा-जमुनी तहजीब को सींचने वाला प्रदेश था। लेकिन अब विभाजन, कट्टरता और नफरत की राजनीति का केंद्र बन गया है।

28 नवंबर को कानून को मंजूरी मिली थी
उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 28 नवंबर को गैर कानूनी धर्म परिवर्तन रोकथाम अध्यादेश को मंजूरी दी थी। इस अध्यादेश में लव जिहाद या किसी खास धर्म का उल्लेख नहीं है, लेकिन यूपी में इसे लव जिहाद के खिलाफ कानून कहा जा रहा है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


उत्तर प्रदेश में लव जिहाद कानून पर अफसरों की चिट्ठियां सुर्खियों में हैं। पांच दिन पहले 104 पूर्व IAS अफसरों ने कानून का विरोध किया था, अब 224 पूर्व IAS अफसरों ने इसका समर्थन किया है।

About Post Author




Happy

Happy

0 %


Sad

Sad

0 %


Excited

Excited

0 %


Sleppy

Sleppy

0 %


Angry

Angry

0 %


Surprise

Surprise

0 %

Leave a Reply

Most Popular

कोरोना से भारत में डेढ़ लाख मौतें: दुनिया का तीसरा देश, जहां सबसे ज्यादा मौतें; पर बेहतर इलाज से 4 महीने में 30 हजार...

बुरी खबर है। देश में कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 1 लाख 50 हजार से ज्यादा हो गई है। भारत दुनिया...

कोरोना देश में: UK से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट अनिवार्य; हर हफ्ते अब 60 की बजाय केवल 30 फ्लाइट्स होंगी

सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि UK से आने वाले सभी लोगों के लिए कोरोना का RT-PCR टेस्ट...

‘अवैध संबंध’ को लेकर महिला ने ‘मानसिक रूप से प्रताड़ित’ किया, सिपाही ने की खुदकुशी

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में मंगलवार को एक पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा खुदकुशी करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। Source link

Recent Comments